Badal gaya Hun me, बदल गया हूँ मैं

कुछ लोग कहते है की बदल गया हूँ मैं,,
उनको ये नहीं पता की संभल गया हूँ मैं,,
उदासी आज भी मेरे चेहरे से झलकती है,,
पर
अब दर्द में भी मुस्कुराना सीख गया हूँ मैं,,

Kuch log kahtey hai ki, badal gaya Hun me,,
Unko pata nahi, ki sambhal gaya Hun me,,
Udase ajj bhi mare chehre se jhalakti hai,,
Par, ab dard se bhi muskurana dekh gaya Hun me,,,

शायरी शेयर करें, Shayari share Karen,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *