Kagarj or khat pyar wali shayari image

Kagarj or khat pyar wali shayari image

Jo baten hoton se byan nahi hote,
Wo khat bol jate hai,
Dil ki baten,
Ak dil se sure dil tak badi asani se dil tak pahucha jate hai,

जो बातें होटों से बयां नहीं होते,
वो ख़त बोल जाते है,
दिल की बातें,
एक दिल से सूरे दिल तक बड़ी आसानी से दिल तक पंहुचा जाते है,

Kabhi kabhi hont Band ho jati hai,
Magar wo bat khat kah jati hai,
Pyar karne walon dil ki bat,
Chupke se kah jati hai,

कभी कभी होंट बंद हो जाती है,
मगर वो बात ख़त कह जाती है,
प्यार करने वालों दिल की बात,
चुपके से कह जाती है,

Dil ke arman,
kagaj pe likh kar bhej raha hun,
Fad kar fenk naa dena,
Es pe apna dil rakh kar bhej raha hun,

दिल के अरमान,
कागज पे लिख कर भेज रहा हूँ,
फाड़ कर फेंक ना देना,
इस पे अपना दिल रख कर भेज रहा हूँ,

Tut jae dil mera,
etna berahm naa ho jana,
Khat me rakha hai, dil mera,
Ese jla naa dena,

टूट जाए दिल मेरा,
इतना बेरहम ना हो जाना,
खत में रखा है, दिल मेरा,
इसे जला ना देना,

Badal gaya hun me,
yaan badal gai hai takdeer meri,
Khun se likha khat tujhe,
Fir bhi tujhe koi,
Parwah nahi,

बदल गया हूँ में,
यान बदल गई है तकदीर मेरी,
खून से लिखा ख़त तुझे,
फिर भी तुझे कोई,
परवाह नहीं,

Aankhon se niklte ansuon ki kasam,
Me tera har khat jala dunga,
Dil me likha hai jo name tera,
Use me mita dunga,

आँखों से निकलते आंसुओं की कसम,
में तेरा हर ख़त जला दूंगा,
दिल में लिखा है जो नाम तेरा,
उसे में मिटा दूंगा

Mar gaya to ansu naa bahana,
Tere pas hai, jo khat, use jla dena,
Tere dil me hai jitni bhi yaaden,
Use tum mita dena,

मर गया तो आंसू ना बहाना,
तेरे पास है, जो खत, उसे जला देना,
तेरे दिल में है जितनी भी यादें,
उसे तुम मिटा देना,

आपको जे शायरी कैसी लगी comment करें, ओर हमको बताएं फ़ोटो शायरी को ओर बेहतर बनाने के लिये अपनी राय दें,

khat or kagaj HD Shayari wali photo

khat or kagaj HD Shayari wali photo

Kagaj pe shayari love

Kagaj ki kasti bana kar,
Baha dete hai,
Naa jane kon si manjil
Ke liy,
Samandar me chhod dete hai,

कागज की कस्ती बना कर,
बहा देते है,
ना जाने कौन सी मंजिल
के लिए,
समंदर में छोड़ देते है,

Kagaj ke foolon me ,
Khushbu nahi hoti,
Bewafaa ke ankhon me
Jhank ke dekh,
Un me mahobbat nahi hoti,

कागज के फूलों में ,
खुशबू नहीं होती,
बेवफा के आँखों में
झांक के देख,
उन में महोब्बत नहीं होती,

Chithee to kagaj ki hoti hai,
Arman magar dil ke hote hai,
Jalte hai jab khat,
Sang kisi ka dil bhi jalta hai,

चिठ्ठी तो कागज की होती है,
अरमान मगर दिल के होते है,
जलते है जब खत,
संग किसी का दिल भी जलता है,

Kagaj pe likhi kuch line aisi bhi hoti hai,
Kisi ko hasa or kisi ko rula jati hai,

कागज़ पे लिखी कुछ लाइन ऐसी भी होती है,
किसी को हँसा और किसी को रुला जाती है,

Nafraat karte the jinse,
Wo aab yaadon me rahne lagi hai,
Nafrat thi jo wo ab chahat me badalne lagi hai,

नफरत करते थे जिनसे,
वो अब यादों में रहने लगी है,
नफरत थी जो वो अब चाहत में बदलने लगी है,

Dil kagaj pe rakh kar,
Khat me bhej deya,
Usko meri mahobbat najar naa aai,
Or, usne khat hawa me uda deya,

दिल कागज़ पे रख कर,
खत में भेज दिया,
उसको मेरी महोब्बत नजर ना आई,
और, उसने खत हवा में उड़ा दिया,

Dil ke arman ko,
Kagaj pe likh kar,
Bhej deya,
Usne meri mahobbat ko samjha hi nahi,
Khat ko fad kar hawa me uda deya,

दिल के अरमान को,
कागज पे लिख कर,
भेज दिया,
उसने मेरी महोब्बत को समझा ही नहीं,
खत को फाड़ कर हवा में उड़ा दिया,