sharabi shayari in hindi hd image download free

sharabi shayari in hindi hd image download free

Gujare huy kal me jine ki adat ho gai,
Subha or sham ko pene ki adat ho gai,
Fariyad me karun kya tumse,
Tu to bewafa ho gai,

गुजरे हुए कल में जीने की आदत हो गई,
सुबह और शाम को पीने की आदत हो गई,
फरियाद में करूँ क्या तुमसे,
तू तो बेवफा हो गई,

Pita hu gm bhulane ko
fir bhi gm bhulae nahi jate,
Jina hai char din,
Magar tere judai ke gm jine nahi dete,

पीता हूं गम भुलाने को
फिर भी गम भुलाए नहीं जाते,
जीना है चार दिन,
मगर तेरे जुदाई के गम जीने नहीं देते,

Har shaam Do char jaam le leta hun,
fir bhi dard naa ho kam,
to Thoda ansu bha leta hun,

हर शाम दो चार जाम ले लेता हूँ,
फिर भी दर्द ना हो कम,
तो थोड़ा आंसू बहा लेता हूँ,

Jab dil jalte hai,
Tab botal khulte hai,
Mohabbat ki aag me,
Ashiq jalte hai,

जब दिल जलते है,
तब बोतल खुलते है,
मोहब्बत की आग में,
आशिक़ जलते है,

Har pene wala sharabi nahi hota,
Or har dil tutne wale ke peche,
Ladki ka hath nahi hota,

हर पीने वाला शराबी नहीं होता,
और हर दिल टूटने वाले के पीछे,
लड़की का हाथ नहीं होता,

Sab kahte hai pita hun itna ke mar jaunga,
Naa samaj hai wo jante hi nahi,
Agar pite nahi, to kab ke mar jate,

सब कहते है पिता हूँ इतना के मर जाऊंगा,
ना समझ है वो जानते ही नहीं,
अगर पीते नहीं, तो कब के मर जाते,

Pile aaj ji bhar ke,
Naa jane fir je sham ho naa ho,
Shaam to hoti hai roz par
usme shamil hm ho naa ho,

पिले आज जी भर के,
ना जाने फिर जे शाम हो ना हो,
शाम तो होती है रोज़ पर
उसमे शामिल हम हो ना हो,

sharab shayari in hindi image

sharab shayari in hindi image, sharab sad shayari photo, शराबी की शायरी हिंदी में जो दिल को छू ले, on photo shayari,

Janun nahi ishq or mahobbat ka,
Fir bhi khoya khoya rehta hun,
Wo jabse khuda hui,
Har sham me peta hun,

जनून नहीं इश्क़ और महोब्बत का,
फिर भी खोया खोया रहता हूँ,
वो जबसे खुदा हुई,
हर शाम में पता हूँ,

Juda jab se wo hui,
Ghut Ghut kar jita hun,
Or, se liy
Har shaam me shrab pita leta hun,

जुदा जब से वो हुई,
घुट घुट कर जीता हूँ,
और, इस लिये
हर शाम में शराब पीता लेता हूँ,

Pene ka shonk nahi fir bhi pee leta hun,
Uski bewafai ko bhulane ko,
Har sham,
Do jaam le leta hun,

पीने का शौंक नहीं फिर भी पी लेता हूँ,
उसकी बेवफाई को भुलाने को,
हर शाम,
दो जाम ले लेता हूँ,

Peta hun gm bhulane ko,
Fir bhi gm sath nahi chhodte,

पीता हूं गम भुलाने को,
फिर भी गम साथ नहीं छोड़ते,

Ajj ji bhar ke pii lene de,
Sare gm ko bhul jane de,
Jab tak me hosh naa kho dun,
Tu aaj mujhe pii lene de,

आज जी भर के पी लेने दे,
सारे गम को भूल जाने दे,
जब तक मे होश ना खो दूँ,
तू आज मुझे पी लेने दे,

Nasha nahi es jam me utna,
Jitni unki ankhon me hai,
Duba hun un ankhon me es kadar,
Mujhe khud ka hosh nahi hai,

नशा नहीं इस जाम में उतना,
जितनी उनकी आँखों में है,
डूबा हूँ उन आँखों में इस कदर,
मुझे खुद का होश नहीं है,

Mosam me bahar naa hoti,
Tum jo naa hoti,
Me aaj hosh me naa hota,
Tera sath jo naa hota,

मौसम में बहार ना होती,
तुम जो ना होती,
में आज होश में ना होता,
तेरा साथ जो ना होता,