Jindagi shayari, जिंदगी शायरी

जिंदगी से अब जी भर गया,,
मरने की चाहत रखते है,
सिर्फ तुमसे नहीं,,
सारी दुनिया से दूर चले जाना चाहते है,,

 

Jindagi se ab ji bhar Gaya,,
Marne ki chahat rakhte hai,
Serf tumse nahi,,
Sari duniya see dur chale Jana chahate hai,,

जिंदगी अकेला जीना नहीं चाहता,,
तुमको छोड़ के ,,,
दुनिया में रहना नहीं चाहता,,
तुमको छोड़ के,,,
दिल किसी से लगाना नहीं चाहता,,
एक तुमको छोड़ के,,,

Jindagi akela jina nahi chahata,,
Tumko chod ke ,,,
Duniya me rehna nahi chahata,,
Tumko chod ke,,,
Dil kise se lagana nahi chahata,,
Ak tumko chod ke,,,

जिंदगी में रस्ते है कई,,
मंजिल नहीं,,
अपने है बहुत,,
साथ कोई नहीं,,
जी रहा हु,,
 जीसका कोई मतलब नहीं,,

Jindagi me
Raste hai Kai,,
Manjil nahi,,
Apne hai bahut,,
Sath koi nahi,,
Ji Raha hu,,
Jiska koi Matlab nahi,,

जिंदगी ने जो सिखाया,,
उसी में जीता हूँ
तनहा हूं मे,,
तनहाई में जीता हूं
मौत आएगी कब,
इंतिजार में जीता हूँ,,,

Jindagi ne Jo sekhaya,,
Usi me jita hu,,
Tanha hu me,,
Tanhai me jita hu,,
Mot aaegi kab,
Entijar me jita hu,,,

जिंदगी से खफा नहीं,
जिंदगी मुझसे खफा है,
में तुम से नहीं,,
तुम मुझसे खफा हो,,
जिंदगी का हर लम्हा तेरे बिना अधूरा है,,

Jindagi se khafa nahi,
Jindagi mujse khafa hai,
Me tum se nahi,,
Tum mujse khfa ho,,
Jindagi ka har lamha tare bena adhura hai,,