Pyar ki kuch khatti methi shayari, प्यार की कुछ खट्टी मीठी शायरी

Pyar ki kuch khatti methi shayari,
प्यार की कुछ खट्टी मीठी शायरी

Kali hai surat meri,
Mera dil ko kala naa samjh lena,
Manga hai dil tera,
Mujhe bhikhari naa samajh lena,

काली है सूरत मेरी,
मेरा दिल को कला ना समझ लेना,
माँगा है दिल तेरा,
मुझे भिखारी ना समझ लेना,

Naa kar pyar,
fir bhi jamane me badnam ho jaoge,
Meri mahobbat ak tarfa sahi,
Lekin ghayal tum ho jaoge,

ना कर प्यार,
फिर भी ज़माने में बदनाम हो जाओगे,
मेरी महोब्बत एक तरफ़ा सही,
लेकिन घायल तुम हो जाओगे,

Duniya ki chhod,
Tu apni kismat ajmale,
Mahobbat hai jis se,
Use apna bana le,

दुनिया की छोड़,
तू अपनी किस्मत आजमाले,
महोब्बत है जिस से,
उसे अपना बना ले,

Tarif naa kar etna,
Ki me hosh me naa rahun,
Duniya chhod ke,
Tere pas chali jaun,

तारीफ ना कर इतना,
की में होश में ना रहूँ,
दुनिया छोड़ के,
तेरे पास चली जाऊं,

Ho gai hai mahobbat,
Ijhar kar naa saka,
Duniya se darta hun,
Esliye pyar naa kar saka,

हो गई है महोब्बत,
इजहार कर ना सका,
दुनिया से डरता हूँ,
इसलिए प्यार ना कर सका,

Mehkte hai fool katen nahi,
Chahate hai hm, tumko,
Es baat ka tumko koi shak to nahi,

महकते है फूल काटें नहीं,
चाहते है हम, तुमको,
इस बात का तुमको कोई शक तो नहीं,

Tere nainon ke teer mujhe,
Ghayal kar gae,
Tujhe pane ke,
Arman jag gae,

तेरे नैनों के तीर मुझे,
घायल कर गए,
तुझे पाने के,
अरमान जग गए,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *